न्यूज़ उत्तर प्रदेश में हो रहा कोरोना से होने वाली...

उत्तर प्रदेश में हो रहा कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़ों में घोटाला

नगर निगम के सॉफ्टवेयर में नहीं है कोरोना से मौत का कॉलम। मृतकों की बीमा राशि मिलने में आ रही दिक्कत।

-

करोना से मौत होने पर परिजनों को बीमा राशि नहीं मिल पा रही है। मृत्यु प्रमाण पत्र में कोरोना से मौत का जिक्र ना होने से कंपनियां बीमा राशि देने से इंकार कर रही हैं। नगर निगम के सॉफ्टवेयर में कोरोना से मौत का कोई कॉलम ही नहीं है। ऐसे में प्रमाण पत्र में कोरोना से मौत का जिक्र नहीं किया जा रहा है। वहीं स्वास्थ्य विभाग भी इस पर मौन साधे हुए है।

दिल्ली में एक दिन में कोरोना से 412 मौतें, देश में Covid-19 के मामले बेलगाम - Corona Virus Spike in Country record deaths in Delhi other States reported news covid19 cases too - AajTak
- Advertisement -

बीमा कंपनियों का दावा है कि अस्पताल का मृत्यु प्रमाण पत्र दाखिल करने के बाद बीमा राशि में कोई अड़चन नहीं है। करोना महामारी की चपेट में आने से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो गई। परिजनों को खो चुके लोग बीमा के लिए दावा कर रहे हैं तो उनका मृत्यु प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है। उसमें कोरोना से मौत इंगित ना होने पर तमाम अन्य कागजात मांगे जा रहे हैं। जिसकी मौत घर पर हुई है उनके लिए ज्यादा परेशानी हो रही है। बीमा प्राप्ति के लिए नगर निगम में पहुंच रहे लोगों को खाली हाथ लौटना पड़ रहा है।

अस्पताल का प्रमाण पत्र होगा मान्य-

एलआईसी के मंडल प्रबंधक एमके जोशी ने बताया कि यदि किसी बीमाधारक की अस्पताल में ही मौत होती है तो एलआईसी म्यूनिसिपल सर्टिफिकेट की जगह डिस्चार्ज समरी, डेथ समरी मानेगी। बीमा का दावा करने के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र के साथ रसीद भी होनी चाहिए।

Uttar Pradesh Lucknow Noida Kanpur Coronavirus cases death toll latest update news । UP Corona Update: यूपी में कोरोना से 312 और मरीजों की मौत, 15747 नये मामले आए - India TV Hindi News

मृतकों की बीमा राशि मिलने में दिक्कत-

  • – नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का खामियाजा कोरोना मरीजों के परिजनों को भुगतना पड़ रहा है।
  • -सॉफ्टवेयर में कोरोना से मौत होने का कॉलम ही नहीं है।
  • -बीमा कंपनियां परिजनों को बिना इसके बीमा राशि देने से इंकार कर रहे हैं।

इसपर डॉ संजय भटनागर का कहना है कि शिकायत मिलने पर निस्तारण किया जाएगा। सॉफ्टवेयर में कोरोना से मृत्यु संबंधी बिंदु ना होने की जानकारी नहीं है।

नगर निगम के अध्यक्ष नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुनील रावत ने कहा कि सॉफ्टवेयर में कोरोना से मौत लिखने का कोई विकल्प है ही नहीं। लिहाजा मृत्यु प्रमाण पत्र में से दर्ज करना संभव ही नहीं है। मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने पहुंचने लोगों को एक प्रोफॉर्म दिया जा रहा है, उसमें यदि वह मौत का कारण कोरोना लिख रहे हैं तो उसे रजिस्टर में दर्ज कर लिया जा रहा है। जरूरत पड़ने पर उसे कहीं भी दिखाया जा सकता है।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you