चर्चा में उत्तर प्रदेश की राजनीति में क्या होने वाला है...

उत्तर प्रदेश की राजनीति में क्या होने वाला है बड़ा ‘फेरबदल’

योगी की शाह के साथ हुई डेढ़ घंटे बात, आज है मोदी के साथ चर्चा

-

उत्तर प्रदेश के तेज हुए सियासी घटनाक्रम में गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अचानक दिल्ली पहुंचे और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार लगभग डेढ़ घंटे की मुलाकात में दोनों नेताओं के बीच सभी मुद्दों पर व्यापक चर्चा हुई है।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मिलेंगे। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार और संगठन में जरूरी बदलाव को देखते हुए मुख्यमंत्री का यह दौरा बेहद अहम है।

Morning News Headlines सुबह की सुर्खियों पर एक नज़र | MotherlandPost

उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष की शुरुआत में ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और भाजपा नेतृत्व उसके पहले सामाजिक राजनीतिक व संगठनात्मक स्तर पर खुद को चाक-चौबंद करने में जुटा हुआ है। वह समय रहते जरूरी बदलाव की तैयारी में है इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री योगी दिल्ली पहुंचे।

मुख्यमंत्री शुक्रवार सुबह 10:45 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। इसके बाद दोपहर 12:30 बजे उनकी मुलाकात भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से होगी। सूत्रों का कहना है कि मोदी और शाह से मुलाकात के बाद भाजपा अध्यक्ष मुख्यमंत्री को जरूरी निर्देश देंगे। इस बीच भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गुरुवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है। सूत्रों का कहना है कि यूपी में संभावित बदलाव को लेकर यह अहम बैठक है।

उत्तर प्रदेश में कौन से जरूरी बदलावों की तैयारी-सूत्रों के अनुसार केंद्रीय नेतृत्व राज्य में जरूरी बदलाव करने से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से व्यापक विचार-विमर्श कर रहा है। सबसे पहले अमित शाह से मुख्यमंत्री की मुलाकात इसी का संकेत है। नेतृत्व सारी परिस्थितियों पर मुख्यमंत्री की राय जानना चाहता है। सूत्रों के अनुसार मुलाकात में अमित शाह और आदित्यनाथ के बीच सभी मुद्दों पर व्यापक चर्चा हुई है।

गृहमंत्री अमित शाह की अनुप्रिया और संजय निषाद से हुई क्या बात-
भाजपा की सहयोगी अनुप्रिया पटेल ने भी गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। अनुप्रिया की मुलाकात आदित्यनाथ की मुलाकात के ठीक बाद हुई। दरअसल, राज्य मंत्रिमंडल के संभावित विस्तार में अनुप्रिया अपने दल का कोटा बढ़ाना चाहती हैं। अभी उनका एक राज्य मंत्री है, वह दो मंत्री और चाहती हैं। राज्य में विधानसभा चुनाव के पहले सामाजिक समीकरणों में अपना दल भी महत्वपूर्ण भूमिका है। शाह ने निषाद पार्टी के नेता संजय निषाद ने भी भेंट की। उनके साथ उनके बेटे और भाजपा सांसद प्रवीण निषाद भी थे।

समीक्षा-

उत्तर प्रदेश को लेकर भाजपा नेतृत्व पिछले एक पखवाड़े से काफी सक्रिय है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से लेकर भाजपा का शीर्ष नेतृत्व लगातार राज्य के हालातों की समीक्षा कर रहा है। और जरूरी बदलाव की तैयारी भी कर रहा है। इस सिलसिले में भाजपा और संघ के नेतृत्व के बीच अनौपचारिक संवाद भी हुआ।

Sourcehindustan
- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you