चर्चा में यूपी: गुटखा पर प्रतिबंध से जेल में बंद कैदी...

यूपी: गुटखा पर प्रतिबंध से जेल में बंद कैदी की मौत

-

उत्तर प्रदेश की जेल में बंद कैदी की तंबाकू उत्पादों पर प्रतिबंध के विरोध के दौरान मौत हो गई है।

- Advertisement -

जौनपुर जेल में बंद कैदियों ने ‘गुटखा’ और ‘पान मसाला’ पर प्रतिबंध के विरोध में सोमवार को भूख हड़ताल की।

एक कैदी की मंगलवार को मौत हो गई। अन्य कैदियों ने दावा किया कि उनकी हड़ताल के दौरान उनकी पिटाई की गई थी।

जेलर संजय सिंह ने कहा कि कैदी जयराम कुछ समय से बीमार था और मंगलवार को उसकी मौत हो गई।

जिला मजिस्ट्रेट अरविंद अल्लाप्पा ने कैदी की मौत की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।

खबरों के मुताबिक, अल्लप्पा और पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार ने जौनपुर जेल पर छापा मारा था और छापेमारी के दौरान सिगरेट, पान मसाला, गुटखा और अन्य प्रतिबंधित सामान मिला था।

जिसके बाद जेल प्रशासन ने ऐसी वस्तुओं पर प्रतिबंध लगा दिया था और जेल के अंदर ऐसे उत्पादों के खिलाफ प्रतिबंध लगा दिया था।

सोमवार को, कैदी भूख हड़ताल पर चले गए और दावा किया कि उन्हें परोसा जा रहा भोजन उप-मानक था। असली वजह थी गुटखा पर प्रतिबंध।

हड़ताल के दौरान कैदियों ने नारेबाजी की और जेल प्रहरियों से भिड़ गए।

कथित तौर पर, जयराम झड़पों में घायल हो गए और बाद में उन्हें जेल अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां मंगलवार सुबह उनकी मौत हो गई।

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you