चर्चा में फेसबुक पर फर्जी आईडी बना धड़ल्ले से वसूला जा...

फेसबुक पर फर्जी आईडी बना धड़ल्ले से वसूला जा रहा पैसा

-

बलिया। जहां एक तरह देश वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा है वहीं साइबर क्राइम में खूब इजाफा देखने को मिल रहा है। सोशल मीडिया पर फेंक एकाउंट बना सक्रिय गिरोह पैसों की वसूली कर रहे हैं। ऐसे कई जालसाजों का पर्दाफाश पिछले दिनों हो चुका है। जिसके बावजूद हैकर्स बाज नहीं आ रहे हैं।

- Advertisement -

ऐसा ही कुछ नया मामला बलिया जिले के बांसडीह रोड थाना क्षेत्र स्थित शीतल दवनी गांव से प्रकाश में आया है जहां कई लोगों के साथ फेसबुक के माध्यम से धन उगाही की कोशिश हुई है।

दवनी निवासी मुकेश कुमार सिंह बताते है कि हमारे भाई संदीप कुमार सिंह जो सोनभद्र में कार्यरत हैं उनसे तीन दिन पहले हमारे गांव के सम्मानित व्यक्ति जगविजय सिंह के आईडी से पैसे की मांग की गई और गाली-गलौज भी किया गया। जगविजय सिंह ने वार्ता के क्रम में अवगत कराया कि मैंने कभी पैसा ही नहीं मांगा, यह काम मेरी आईडी हैक कर किया गया है।

उक्त मामले में संदीप द्वारा प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के साथ साथ डीजीपी महोदय के यहां भी शिकायत के तत्काल निस्तारण हेतु आवेदन किया गया है।

मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि लॉक डाउन के पूर्व समय से हम लखनऊ से अपने गांव पर आये है तो यहां पता चला कि फेसबुक पर फर्जी नाम से आईडी की भरमार है और तो और आपके प्रोफ़ाइल से फोटो को डाउनलोड करके दूसरा आईडी बना लिया जा रहा है तथा उस आईडी से आपके रिश्तेदारों से कोई न कोई बहाना बना कर पेटीएम,फोन-पे या गूगल-पे पर पैसे की मांग किया जा रहा है।

कुछ माह पूर्व गांव के एक युवा के फर्जी आईडी से उसके सगे फूफा से बेटी की तबियत खराब हो जाने के बहाने पैसे की मांग की गई,जब उसके बुआ फोन पर इस बावत बात की तो मामले का भंडाफोड़ हुआ।

पुनः तीन दिन पहले शीतल दवनी के सम्मानित जगविजय सिंह की आईडी हैक हो गयी तथा गांव के तमाम लोगो से पैसे की मांग होने लगी।
इस तरह की घटना पर पूर्व में उत्तर प्रदेश एसटीएफ को एडवाइजरी जारी करनी पड़ी थी, जिसमें कहा गया था कि सोशल मीडिया पर सीमित जानकारी दें ताकि निजता बची रहे।

अगर आप फेसबुक पर हैं तो यह खबर आपके लिए है। आये दिन साइबर क्राइम के नए नए मामले संज्ञान में आ रहे है, इसी के चलते यूपी एसटीएफ ने सोशल मीडिया पर हो रहे फ्रॉड को लेकर लोगों को आगाह किया है।

Facebook पर दर्ज हुआ 3500 करोड़ डॉलर का मुकदमा

 

सोशल मीडिया पर सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ाने के चक्कर में आप कहीं अपनी जमा पूंजी न गंवा बैठें, इसके लिए सेटिंग में जाकर लोकेशन को बंद करिए वरना चोरों के लिए काम आसान हो जाएगा. साइबर एक्सपर्ट विपिन के पास फ्रॉड के शिकार कई लोग आते हैं. इस फ्रॉड से बचने के वे तरीके बताते हैं. उनके अनुसार फेसबुक की सेटिंग में फेस रिकग्नीशन को टर्न ऑन करें. फेसबुक लोकेशन को बंद करें. फोन बैंकिग करने वाले नंबर को फेसबुक पर न लिखें. फेसबुक पर अपना ईमेल न लिखें।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you