गांव कनेक्शन किसानों के लिए सिंजेंटा ने लांच किया किसान-हेल्पलाइन

किसानों के लिए सिंजेंटा ने लांच किया किसान-हेल्पलाइन

-

कोविड-19 की वजह से किसानों को खेती में जो भी समस्या हो रही है, उसका समाधान जानना हो या फिर मुफ्त में फसल संबंधी सलाह लेनी हो, सिंजेंटा का हेल्पलाइन है न!

- Advertisement -

लखनऊ, 15 अप्रैल। सिंजेंटा इंडिया ने कोविड 19 की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन में किसानों की चिंताओं को देखते हुए सिंजेंटा किसान हेल्पलाइन के नाम से एक राष्ट्रव्यापी टेली-सलाह सेवा शुरू की है।

किसान अब सिंजेंटा किसान हेल्पलाइन नंबर 1800-1-215-315 पर लैंडलाइन और मोबाइल दोनों से ही कॉल कर सकते हैं। इस हेल्पलाइन से पूरे भारत के किसान मुफ्त में फसल संबंधी सलाह के अलावा खेतीबारी से जुड़ी कोई भी सूचना पा सकते हैं, जो इस अभूतपूर्व समय में उनको झेलना पड़ रहा है। सिंजेंटा के विशेषज्ञों की टीम सवालों का जवाब देगी, निर्देशन करेगी और किसी खास कृषि संबंधी चुनौती पर तुरंत सहायता पहुंचाएगी।

नौ अलग भाषाओं में कुल 16 चैनल इसके लिए तैयार किए गए हैं। राजस्थान, उ.प्र.,छत्तीसगढ़, बिहार, हरिणाणा, म.प्र., जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तर भारतीय राज्यों के लिए हिंदी में चैनल उपलब्ध होगा, जबकि बाकी गैर-हिंदी भाषी राज्यों के लिए क्षेत्रीय भाषाओं, जैसे पंजाबी, मराठी, गुजराती, तेलुकु, तमिल, कन्नड़, ओड़िया और बंगाली में सेवाएं उपलब्ध होंगी।

सिंजेंटा इंडिया लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर राफेल डेल रियो ने कहा, ‘हमारी सेवाओं के केंद्र में किसान हैं और एक ऐसे समय जब किसान फसलों की कटाई और खरीफ की तैयारी में लगनेवाले थे, यह काफी महत्वपूर्ण है कि उन्हें सही सलाह मिले। हमें यह लगा कि यह सही वक्त है, जब किसानों को उनकी चिंताओं के समाधान के लिए एक प्लेटफॉर्म दिया जाए। ये हेल्पलाइन कई जरूरी मुद्दों के साथ उनको लॉकडाउन के दौरान और उसके बाद भी कई महत्वपूर्ण सूचनाएं मुहैया कराएगा।’

सिंजेंटा इंडिया लिमिटेड के सीएसओ (चीफ सस्टेनिबिलिटी ऑफिसर) ने राफेल की बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘किसानों को अप्रत्याशित मौसम, कीड़ों के आक्रमण, पौधों के रोग, बाजार की बदलती हालत इत्यादि कई मसलों का समामना करना पड़ता है और कोविड 19 जैसी महामारी के वक्त, भरोसेमंद और समय पर मिली सूचना ही स्थितियों को बिगड़ने से बचा सकती है। इस राष्ट्रीय हेल्पलाइन के जरिए हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि किसानों के लिए खेती और किसानी के मुद्दों को उठाने और समाधाना पाने का एक चैनल, एक रास्ता मौजूद है।’

कॉल सेंटर न केवल कॉल रिसीव करेगा, बल्कि वह किसानों तक पहुंचकर उनको सोशल डिस्टेंसिंग कायम रखने, पीपीई का प्रयोग करने और बाकी सावधानी बरतने के बारे में बताएगा, जो कोविड-19 में जरूरी है।

यह हेल्पलाइन सोमवार से शनिवार 9.30 बजे सुबह से 5.30 बजे शाम तक काम करेगी।

सिंजेंटा के बारे में

सिंजेंटा एक अग्रणी कृषि कंपनी है जो लाखों किसानों को उपलब्ध संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल करना सिखाकर वैश्विक खाद्यान्न सुरक्षा को बेहतर बनाती है।

जावेद रहमतुल्लाह
मोबाइल: 9998922211
ई-मेेेेेेे

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you