खेल सचिन तेंदुलकर ने कोविद -19 महामारी से लड़ने के...

सचिन तेंदुलकर ने कोविद -19 महामारी से लड़ने के लिए 50 लाख रुपये का दान दिया

-

सचिन तेंदुलकर का दान भारत के प्रमुख खिलाड़ियों में अब तक का सबसे बड़ा योगदान है, जिनमें से कुछ ने अपनी तनख्वाह गिरवी रखी है जबकि कुछ अन्य लोगों ने खूंखार प्रकोप से लड़ने के लिए चिकित्सा उपकरण दान किए हैं बैटिंग के महारथी सचिन तेंदुलकर ने शुक्रवार को COVID-19 महामारी से लड़ने के लिए 50 लाख रुपये का दान दिया, जो अब तक 17 भारतीय लोगों का दावा कर चुका है और विश्व स्तर पर कहर बरपा रहा है।

- Advertisement -

तेंदुलकर का दान भारत के अग्रणी खिलाड़ियों में अब तक का सबसे बड़ा योगदान है, जिनमें से कुछ ने अपनी तनख्वाह गिरवी रखी है, जबकि कुछ अन्य लोगों ने खूंखार प्रकोप से लड़ने के लिए चिकित्सा उपकरण दान किए हैं, जिससे विश्व स्तर पर 24,000 से अधिक लोगों की मृत्यु हुई है। “”सचिन तेंदुलकर ने COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में शामिल होने के लिए अपनी बोली में प्रधानमंत्री राहत कोष और मुख्यमंत्री राहत कोष में प्रत्येक को 25 लाख रुपये का योगदान देने का फैसला किया। यह उनका फैसला था कि वह दोनों फंड में योगदान करना चाहते थे,” एक स्रोत प्रिवी। नाम न छापने की शर्तों पर पीटीआई को बताया।

तेंदुलकर कई चैरिटी के काम से जुड़े रहे हैं और कई बार ऐसा हुआ है, उन्होंने सामाजिक कारणों को उठाया है, लोगों की मदद की है, जिसे कभी भी सार्वजनिक नहीं किया गया।

अन्य प्रमुख क्रिकेटरों में, पठान भाइयों – इरफ़ान और यूसुफ – ने बड़ौदा पुलिस और स्वास्थ्य विभाग को 4000 फेस मास्क दान किए, जबकि महेंद्र सिंह धोनी ने पुणे स्थित एक एनजीओ के माध्यम से 1 लाख रुपये का योगदान दिया।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you