चर्चा में देश के अन्नदाताओं को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा,...

देश के अन्नदाताओं को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक में चालू फसल वर्ष 2021-22 के खरीफ सीजन वाली फसलों के लिए एमएसपी के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई।

-

केंद्र सरकार ने किसानों के हित में बड़ा फैसला लेते हुए बुधवार को खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का ऐलान कर दिया है। धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹72 से बढ़ाकर 1940 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया गया है। दलहन फसलों की खेती को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार ने इसकी एमएसपी में भारी वृद्धि की है। आयात निर्भरता घटाने के लिए सरकार ने अरहर और उड़द का समर्थन मूल्य ₹300 प्रति क्विंटल तक बढ़ाने का ऐलान किया है। तेल की एमएसपी ₹452 प्रति क्विंटल बढ़ाई गई है।

बड़ी खबर- किसानों को मोदी सरकार का तोहफा, खरीफ फसलों की MSP में जबरदस्त इजाफा | Zee Business Hindi
  • धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹72 से बढ़ाकर 1940 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है।
  • दलहन फसलों की खेती को प्रोत्साहन देने के लिए इसकी एमएसपी में भारी वृद्धि की गई है।
  • आयात निर्भरता घटाने को अरहर व उड़द की एमएसपी ₹300 प्रति क्विंटल तक बढ़ाई गई है।
  • तिल का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹452 से बढ़ाकर 7307 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है।
खरीफ 2019-20 की फसलों के एमएसपी में मामूली बढ़ोतरी, धान में सिर्फ 3.7 फीसदी की वृद्धि
- Advertisement -

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक में चालू फसल वर्ष 2021-22 के खरीफ सीजन वाली फसलों के लिए एमएसपी के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। मानसून सीजन शुरू हो चुका है बारिश चालू होने के साथ ही खरीफ सीजन की प्रमुख फसल धान की खेती जोर पकड़ने लगती है। मौसम विभाग ने इस बार दक्षिण पश्चिम मानसून की अच्छी बारिश की भविष्यवाणी की है। खरीफ सीजन की दलहन व तिलहन फसलों की खेती को बढ़ावा देने के लिए एमएसपी में विशेष प्रोत्साहन दिया गया है।

नरेन्द्र सिंह तोमर - विकिपीडिया

सरकार की पूरी कोशिश दाल और खाद्य तेलों के मामलों में आयात निर्भरता हर हाल में घटाने की है। कैबिनेट के फैसले की जानकारी देने आए केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने प्रमुख फसलों के समर्थन मूल्य में की गई वृद्धि का ब्यौरा दिया। उन्होंने विपक्षी दलों और कृषि कानून विरोधी आंदोलन करने वालों को जवाब देने के अंदाज में कहा कि एमएसपी पहले भी थी, अब भी है, और आगे भी जारी रहेगी। किसानों के हित में इसमें लगातार बढ़ोतरी होती रहेगी। मंत्रिमंडल की बैठक में धान (सामान्य प्रजाति) के मूल्य में ₹72 की वृद्धि के साथ उसकी एमएसपी 1940 रूपये कर दी गई है। पिछले साल इसकी एमएसपी 1868 रूपये प्रति क्विंटल थी।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you