मनोरंजन मल्लिका शेरावत ने वो काम किया जिसकी जितनी तारीफ...

मल्लिका शेरावत ने वो काम किया जिसकी जितनी तारीफ हो कम है

-

अभिनेत्री मल्लिका शेरावत ने देश में शाकाहार को बढ़ावा देने के लिए फेडरेशन ऑफ इंडियन एनीमल प्रोटेक्शन ऑर्गेनाइजेशन को सपोर्ट देने का एलान किया है और अपने फैंस से गुजारिश की है वे 21 दिनों तक केवल शाकाहारी भोजन खाएं।

- Advertisement -

मल्लिका शेरावत

मल्लिका ने अपने ट्विटर हैंडल पर एफआईएपीओ के हैशटैग21डे कम्पैशन चैलेंज को साझा करते हुए अपने प्रशंसकों को 21 दिनों तक दूध या दूध से बने उत्पाद समेत जानवरों के किसी भी उत्पाद का सेवन नहीं करने की सलाह दी है तथा एक वीडियो साझा किया है।

इस वीडियो में मल्लिका ने खुद के दयालु बनने के बारे में बातें की हैं। उन्होंने कहा कि मैं सभी के लिए कृपालु होने में विश्वास करती हूं। मैं समझती हूं कि हम सब सहज रूप से कृपालु हैं, लेकिन इसे देख नहीं पाते। मैं पिछले 15 सालों से वेगन हूं और मेरे लिए वेगन होगा जीवनशैली चुनने जैसा है, जो कि स्वास्थ्यकारी और क्रूरतामुक्त जीवन है।

उन्होने कहा कि कई लोग सोचते हैं कि वेगन होने के लिए मुझे काफी कुछ छोड़ना पड़ा होगा, लेकिन लंबे समय से वेगन होने के कारण मैं गर्व से कह सकती हूं कि मुझे किसी चीज को छोड़ना नहीं पड़ा।”

मल्लिका शेरावत

उन्होंने कहा, “वास्तव में, मैं अब ज्यादा स्वस्थ और खुश हूं, क्योंकि मुझे यह जानकर खुशी मिलती है कि मेरे आहार के कारण किसी जानवर को नहीं भुगतना पड़ता है। मैं गाय का दूध नहीं पीती और मैं मांस नहीं खाती, क्योंकि नहीं चाहती कि हमारी पसंद के कारण किसी जानवर को परिणाम ना भुगतना पड़े। मैं अपने सभी प्रशंसकों से गुजारिश करती हूं कि कम से कम 21 दिनों के लिए वेगन बनने की चुनौती को स्वीकार करें।”

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you