न्यूज़ देश महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए...

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार तैयार करेगी एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा

-

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी। इसके तहत स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े विभिन्न क्षेत्रों में युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। शुक्रवार को स्किल इंडिया के अंतर्गत क्रैश कोर्स की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इससे गत 16 माह से लगातार काम कर रहे हेल्थ केयर वर्कर्स पर बोझ कम होगा साथ ही जरूरी स्वास्थ्य सेवाओं को सुचारू रूप से चलाने के लिए प्रशिक्षित कर्मियों की कमी भी दूर होगी।

- Advertisement -

1 lakh warriors will be ready to fight against Corona PM Modi started  another campaign of crash course to fight against pandemic - कोरोना से जंग  को तैयार होंगे 1 लाख वॉरियर्स,

मोदी के अनुसार कोरोना वायरस के बदलते स्वरूप से भविष्य में आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए बड़ी संख्या में अग्रिम मोर्चे के कोरोना योद्धाओं की जरूरत है। एक लाख युवाओं को प्रशिक्षित कर इसके लिए तैयार करने का फैसला किया गया है। दो-तीन माह की आन जॉब ट्रेनिंग के बाद यह युवा अपनी जिम्मेदारी संभालने के लिए पूरी तरह सक्षम होंगे। प्रशिक्षण कार्यक्रम को मोटे तौर पर क्षेत्रों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है। इसमें नर्सिंग से जुड़े सामान्य काम, होम केयर, क्रिटिकल केयर में मदद, सैंपल कलेक्शन, मेडिकल टेक्नीशियन व नए-नए उपकरणों को संभालने की जिम्मेदारी शामिल है।

Coronavirus India News Updates: महाराष्ट्र में 50 हजार से ज्यादा संक्रमित  इलाज के बाद ठीक, अब

दूसरी लहर की खामियों से लेंगे सबक- 

कौशल विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दूसरी लहर में पूरे देश में स्वास्थ्य सेवाओं में प्रशिक्षित कामगारों की भारी कमी देखी गई है। ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए विदेशों से टैंकर तो मंगा लिए गए, लेकिन तरल ऑक्सीजन ढोने वाले टैंकर चलाने के लिए प्रशिक्षित ड्राइवर ही नहीं थे। विदेशों से आने वाले टैंकर लेफ्ट हैंड व्हील थे, इसके लिए सेना के ड्राइवरों की मदद ली गई थी। नए कार्यक्रम में इसके लिए 2,500  ड्राइवर को ट्रेनिंग दी जाएगी।

वेंटिलेटर चलाने की दी जाएगी ट्रेनिंग- 

राज्यों में वेंटिलेटर का इस्तेमाल सिर्फ इसलिए नहीं हो पाया क्योंकि उन्हें चलाने के लिए प्रशिक्षित लोग नहीं थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के हर जिले में ऑक्सीजन की सुविधा मुहैया कराने के लिए 1,500 से ज्यादा ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट लगाने का काम चल रहा है। प्लांट को चलाने व रखरखाव के लिए बड़ी संख्या में प्रशिक्षित लोगों की जरूरत पड़ेगी। कौशल विकास मंत्रालय ने आईटीआई से प्रशिक्षित 2,5000 युवाओं की पहचान की है, जिन्हें इस काम में लगाया जा सकता है। उन्हें प्रशिक्षण के साथ इसके लिए तैयार किया जाएग।

प्रशिक्षण के दौरान युवाओं को मिलेगा मानदेय-

प्रशिक्षण के दौरान युवाओं को मानदेय दिया जाएगा। उनके रहने और खाने और की मुफ्त व्यवस्था की जाएगी। उनका 2 लाख का दुर्घटना बीमा भी कराया जाएगा। राज्य सरकारों को ट्रेनिंग लेने वाले युवाओं को प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण कराने और अन्य सुविधाएं मुहैया कराने को कहा गया है।

1300 कोविड पीड़ितों के शवों का अंतिम संस्‍कार करने वाले कोरोना योद्धा की  दवाओं के अभाव में हुई मौत | Nagpur corona warrior died for want of  medicines, who cremated 1,300 Covid

कुछ खास बातें-

  • प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत 276 करोड़ के बजट के साथ, 26 राज्यों में 111 केंद्रों पर शुरू हुआ क्रैश कोर्स
  • ऑक्सीजन प्लांट संभालने के लिए 25 हजार युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा।
  • तरल ऑक्सीजन टैंकर चलाने के लिए 2500 ड्राइवरों को दी जाएगी ट्रेनिंग।
  • सैंपल कलेक्शन के लिए होम केयर तक के युवाओं को किया जाएगा दक्ष।
  • कौशल विकास के तहत दो-तीन महीने की दी जाएगी आनजाॅब ट्रेनिंग।

पीएम मोदी के द्वारा स्किल इंडिया के तहत क्रैश कोर्स शुभारंभ से कई युवाओं को रोजगार तो मिलेगा ही साथ में देश की समस्या भी दूर होगी। देश महामारी से निपटने के लिए सशक्त बनेगा और जल्द ही देश इस महामारी से मुक्त होकर फिर से विकास की गति को थाम कर आगे बढ़ेंगे।

Sourcejagran
- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you