चर्चा में कमलनाथ ने कर दी किसानों और नौजवानों को खुश...

कमलनाथ ने कर दी किसानों और नौजवानों को खुश करने वाली बात, जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला

-

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद कमलनाथ ने साफ कर दिया है कि उनकी सरकार के लिए किसान और नौजवान प्राथमिकता होंगे। सभा चुनाव में कांग्रेस को बहुमत मिलने और मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद शुक्रवार को कमलनाथ ने कहा, “सरकार बनने के बाद कृषि क्षेत्र और बेरोजगारी उनकी प्राथकिमता होगी। राज्य का कृषि क्षेत्र अर्थव्यवस्था की बुनियाद है और बेरोजगारी की एक बड़ी चुनौती है।”

- Advertisement -

कमलनाथ

कमलनाथ ने कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मुलाकात की। कमलनाथ की ओर से सरकार बनाने का दावा पेश किया गया था, जिस पर राज्यपाल ने उन्हें बुलाया और सरकार बनाने का पत्र सौंपा।

राफेल डील : शाह के पलटवार के बाद काँग्रेस का नया दांव, पूछा ये बड़ा सवाल

कांग्रेस के नव-निर्वाचित नेता कमलनाथ ने राजभवन से बाहर निकलकर संवाददाताओंको बताया कि 17 दिसंबर को दोपहर डेढ़ बजे लाल परेड मैदान में शपथ ग्रहण होगा।

कमलनाथ के साथ प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, सांसद विवेक तन्खा, अरुण यादव, सुरेश पचौरी आदि थे। राज्यपाल से कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल का संवाद हुआ।

राहुल गांधी को बड़ा झटका, राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को दी क्लीन चिट

राज्य के विधायकों ने गुरुवार की रात को कमलनाथ को अपना नेता चुन लिया था। उसके बाद पर्यवेक्षक ए.के. एंटोनी ने कमलनाथ के नाम की घोषणा की।

कमलनाथ ने नेता चुने जाने के बाद साफ किया कि उनकी सरकार चुनाव के दौरान लोगों के लिए बनाए गए वचन पत्र पर अमल करने का प्रयास करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Thepublic  के Facebook  पेज को Like Twitter पर Follow करना न भूलें…

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you