चर्चा में जानिए उत्तर प्रदेश में 21 तारीख से किन स्थानों...

जानिए उत्तर प्रदेश में 21 तारीख से किन स्थानों पर मिलेगी ढील

50 फ़ीसदी की क्षमता के साथ खोले जाएंगे रेस्टोरेंट व माॅल। रात्रि 9:00 बजे तक खुल सकेंगे बाजार व मॉल

-

कोरोना संक्रमण की कम होती दर के मद्देनजर योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में अगले सोमवार यानी 21 जून से एक और रियायत बरती है, रात्रि कर्फ्यू में 2 घंटे की और ढील देने का बड़ा फैसला किया गया है। रात्रि कालीन कर्फ्यू अब रात 7:00 के बजाय रात 9:00 बजे से सुबह 7:00 बजे तक ही होगा। इसके साथ ही रेस्टोरेंट और मॉल को 50% क्षमता के साथ खोलने की अनुमति भी दे दी गई है। पार्क और स्ट्रीट फ़ूड की दुकाने भी खोली जा सकेगीं।

- Advertisement -

लॉकडाउन में आज से मिल सकती है छूट, जानें कोनसे सुरक्षित इलाकों को मिल सकती है छूट

कोरोना संक्रमण में घटते मामलों को देखकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को टीम -9 के साथ बैठक में निर्देश दिए कि इन स्थानों पर कोविड-19 हेल्प डेस्क की स्थापना और प्रोटोकॉल का पालन कराने के साथ नई व्यवस्था के संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश जल्द जारी किए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोनावायरस कमजोर पड़ चुका है लेकिन खतरा अभी बरकरार है, आने वाले कुछ माह बच्चों के स्वास्थ्य के मद्देनजर से संवेदनशील हैं।

साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि बरसात का मौसम शुरू हो रहा है संचारी रोग, डेंगू, इंसेफेलाइटिस, चिकनगुनिया आदि की समस्या बढ़ने की आशंका है। विशेषज्ञों ने कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका भी जताई है। ऐसे में बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए सभी जरूरी प्रबंध किए जा रहे हैं। इंसेफेलाइटिस की रोकथाम के लिए ‘दस्तक’ अभियान के साथ संचारी रोगों से बचाव के लिए विशेष जागरूकता अभियान चलेगा। बच्चों के लिए उपयोगी पल्स ऑक्सीमीटर की पर्याप्त व्यवस्था होगी।

Schools will open in UP from July 1 this order issued regarding the arrival of children - यूपी में एक जुलाई से खुलेंगे स्कूल, बच्चों के आने को लेकर जारी हुआ यह आदेशप्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद की बात करें तो स्कूल अब 1 जुलाई से खोले जाएगें। अभी तक बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों को 15 जून से खोला जाना था, लेकिन अब यह स्कूल जुलाई से खुलेगे। परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। हालांकि इन सभी स्कूलों में विद्यार्थियों के आने पर अग्रिम आदेशों तक रोक बरकरार रहेगी। वही माध्यमिक स्तर के स्कूल भी गर्मी की छुट्टियों के बाद 1 जुलाई से खोले जाएंगे। स्कूलों में शिक्षकों को जरूरत के मुताबिक बुलाया जाएगा

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you