चर्चा में जानिए दिल्ली में किन-किन स्थानों पर हुआ अनलाॅक और...

जानिए दिल्ली में किन-किन स्थानों पर हुआ अनलाॅक और किन जगहों पर अभी भी रहेगा लॉकडाउन

दिल्ली में तेजी से बढ़ा अनलॉक, आज से खुले बाजार व मॉल

-

कोरोना संक्रमण कम होने के साथ सामान्य जीवन पटरी पर लौटने लगा है। राजधानी दिल्ली में आज से बाजार, मॉल और शापिंग कांप्लेक्स पूरी तरह खुल गए हैं। रेस्तरां व सैलून को आधी क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी गई है।

- Advertisement -

दिल्ली में बाइक-कार-ऑटो सबकी मैक्सिमम स्पीड लिमिट फिक्स, देखें पूरी लिस्ट - Delhi traffic police maximum speed limit new order road list with speed - AajTak

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में रविवार को हुई राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राहतों की घोषणा की। उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर सरकार हर संभव तैयारी करने में जुटी हुई है। अर्थव्यवस्था को भी पटरी पर लाने के लिए काम किया जा रहा है साथ ही उन्होंने कहा कि बाजार और रेस्तरां को एक हफ्ते तक देखेंगे, अगर एक हफ्ते में अगर कोरोना के मामले नहीं बढ़ते हैं तो इसको आगे भी चालू रखेंगे लेकिन अगर मामले फिर भी बड़े तो प्रतिबंध और सख्त किए जाएंगे। उन्होंने लोगों से अनुरोध किया कि कहीं भीड़ ना होने दें, शारीरिक दूरी रखें, मास्क पहने और नियमों का सख्ती से पालन करें।

Lockdown in Delhi: दिल्ली में एक हफ्ते तक लॉकडाउन बढ़ा, 31 मई से राजधानी में शुरू होगी अनलॉक प्रक्रिया

किन स्थानों पर नहीं दी गयी छूट –

  • सरकारी दफ्तर में फिलहाल छूट का दायरा नहीं बढ़ाया गया है। इस हफ्ते भी ग्रुप-ए के अफसरों की 100 फ़ीसदी उपस्थिति रहेगी और बाकी सबकी 50 पेज की उपस्थिति रहेगी। निजी कार्यालय 50 फीसद की क्षमता से सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक काम करेंगे।
  • बैंक्वेट हॉल, मैरिज हॉल और होटल आदि सार्वजनिक स्थान पर अभी शादी या पार्टी नहीं की जा सकेगी। 20 लोगों की क्षमता के साथ कोर्ट या घर में शादी की जा सकती है। अंतिम संस्कार में भी 20 से ज्यादा लोग नहीं जा सकेंगे।
  • दिल्ली मेट्रो और बस 50 फीसद की क्षमता के साथ चलेंगे। पब्लिक ट्रांसपोर्ट ऑटो ई-रिक्शा वगैरह की अनुमति भी रहेगी लेकिन ऑटोरिक्शा और टैक्सी में सिर्फ 2 यात्री बैठाए जा सकेंगे।

इन पर पूरी तरह रहेगा प्रतिबंध-

  • स्कूल कॉलेज व अन्य शिक्षण संस्थान प्रदर्शनी स्पा जिम योग संस्थान पब्लिक पार्क व गार्डन पूरी तरह बंद रहेंगे।
  • सामाजिक, राजनीतिक, खेल-कूद, मनोरंजन, एकेडमिक, सांस्कृतिक और धार्मिक समारोह की अनुमति नहीं रहेगी।
  • स्वीमिंग पूल, स्टेडियम, स्पोर्ट्स कांप्लेक्स, सिनेमा-थिएटर व मल्टीप्लेक्स बंद रहेंगे।
  • साथ ही एंटरटेनमेंट पार्क और वॉटर पार्क की बंद रहेंगे।
  • बैंक्वेट हॉल, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल भी बंद रहेंगे।

Delhi Unlock Process: दिल्ली में Odd-Even Formula के तहत खुले मार्केट्स और मॉल्स, मेट्रो भी 50% क्षमता के साथ दौड़ रही पटरियों पर - The Financial Express

जोन में रोजाना खुल सकेगा एक सप्ताहिक बाजार-

साप्ताहिक बाजार को भी खोलने की अनुमति दे दी गई है। लेकिन यह अनुमति रोजाना पूरे जोन में एक बाजार को खोलने के लिए होगी। ऐसे में कोरोना नियमों के साथ प्रतिदिन जोन में एक साप्ताहिक बाजार को खुलवाने की जिम्मेदारी एमसीडी और पुलिस प्रशासन की होगी।

धार्मिक स्थल खुले हैं लेकिन श्रद्धालु प्रवेश नहीं कर सकेंगे-

राजधानी में सभी धार्मिक स्थल भी खोल दिए गए हैं। लेकिन में श्रद्धालुओं को आने-जाने की अनुमति नहीं है। धार्मिक स्थल के प्रबंधन से जुड़े लोग यहां सिर्फ साफ-सफाई और पूजा-पाठ कर सकेंगे।

Delhi Lockdown News: Arvind Kejriwal Send Lockdown Or Semi Lockdown Proposal To Central Government For Delhi All Update - Delhi Lockdown: बाजारों में एक बार फिर लॉकडाउन की तैयारी में सरकार, शादियों

कई अन्य राज्यों में भी लॉकडाउन में ढील-

देश के कई अन्य राज्यों में भी लॉकडाउन में ढील दी है। तमिलनाडु के 27 जिलों में राहतें बढ़ा दी गई हैं। चाय की दुकानों को खोलने की अनुमति दे दी गई है। असम सरकार ने कोरोना डोज की दोनों खुराक ले चुके कर्मचारियों को कार्यालय आने को कहा है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा प्रदेश में अब शादी समारोह में 40 व्यक्ति सम्मिलित हो सकेंगे, लेकिन उनकी कोरोना जांच अनिवार्य होगी। नागालैंड ने 18 जून तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की है, लेकिन जनता को कुछ छूट भी दी है। हिमाचल प्रदेश में 50 फीसदी क्षमता के साथ बसे चल रहीं हैं । हिमाचल प्रदेश में बाजार भी सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक खुलेंगे शनिवार और रविवार को सिर्फ आवश्यक वस्तुओं की दुकानें ही खुल सकेगीं। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर में 8 जिलों में छूट देने की घोषणा कर दी गई है, लेकिन अन्य 12 जिलों में पहले की तरह ही रोक लागू है। बिहार में जुलाई से स्कूल कॉलेज खोलने की तैयारी है। बिहार में हालात सामान्य रहे तो जुलाई में स्कूल-कॉलेज के साथ शिक्षण संस्थानों में कक्षाएं चरणबद्ध तरीके से शुरू की जाएंगी। शिक्षा विभाग की ओर से इसके लिए तैयारी शुरू कर दी गई है।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you