चर्चा में चीन में hantavirus से कई लोगों की मौत -क्या...

चीन में hantavirus से कई लोगों की मौत -क्या यह अधिक खतरनाक है?

-

यहां तक ​​कि जब दुनिया कोरोनोवायरस के प्रकोप की चपेट में है और एक आपदा का सामना करना पड़ रहा है, जैसा कि पहले कभी नहीं हुआ था, तो एक हेवेंवायरस से मरने वाले चीनी व्यक्ति ने इंटरनेट पर और भी धमाके किए। कथित तौर पर युन्नान प्रांत में एक बस से यात्रा कर रहा था जब उसकी अचानक मृत्यु हो गई और परीक्षणों में जानलेवा हेन्टावायरस की उपस्थिति का पता चला और अन्य 32 सह-यात्रियों के परीक्षण के प्रयास जारी हैं।

- Advertisement -

Hantavirus वास्तव में एक नया नहीं है जैसा कि भारी साझा व्हाट्सएप समुदाय द्वारा दावा किया गया है लेकिन पहले से ही अस्तित्व में है। कोरोनावायरस के विपरीत, हेवेंटवायरस मनुष्यों से मनुष्यों के लिए संचारी नहीं है, बल्कि कृन्तकों से मनुष्यों के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के रोग नियंत्रण और रोकथाम (सीडीसी) केंद्रों के अनुसार है। यदि कोई व्यक्ति चूहे या अन्य कृन्तकों के मूत्र, लार, मल या घोंसले के पदार्थों को छूने और फिर उनके मुंह, नाक या आंखों को छूने के लिए होता है, तो हेंटावायरस उसे प्रभावित कर सकता है।

हैनटवायरस के लक्षण हैं

101everF से अधिक बुखार, ठंड लगना, शरीर में दर्द, सिरदर्द। मतली और उल्टी और पेट में दर्द। नए दाने (बेहोश लाल धब्बे)
साँस लेने में कठिनाई के तेजी से शुरुआत के बाद एक सूखी खाँसी।हालांकि लक्षण कुछ हद तक समान हैं, रिपोर्ट्स से यह स्पष्ट है कि नागरिकों को कोरोनोवायरस जैसे हैवेंटवायरस से डरने की जरूरत नहीं है जो इस लेखन के समय 16,500 की मौत के साथ दुनिया भर में चार लाख लोगों को प्रभावित कर रहे हैं।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you