गांव कनेक्शन समाज को आईना दिखा रहे हैं ये युवा, टीम...

समाज को आईना दिखा रहे हैं ये युवा, टीम तुलसीपुर कर रही शानदार काम

-

बलरामपुर। कोरोना की मार पूरी दुनिया झेल रही है, भारत में भी यह महामारी पांव पसार चुका है। देश में लॉक डाउन चल रहा है जिससे कोरोना को फैलने से रोका जाए। सरकार जनहित में निरंतर प्रयास कर रही है इसी बीच देश के जागरूक युवा भी मिसाल पेश कर रहे हैं।

- Advertisement -

वैसे तो यूपी के हर जिले से तमाम संगठन कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अपना सहयोग दे रहे हैं। लेकिन इस रिपोर्ट में हम बलरामपुर जिले के तुलसीपुर टीम का जिक्र करेंगे। यह टीम करीब महीने भर से जरूरत मंदों की मदद करने में लगी हुई ही। दरअसल, कोरोना वायरस महामारी की वजह से तुलसीपुर में जरूरत मंद गरीबों को भूखे रहना पर मजबूर होना पड़ा, इस संकट की घड़ी को देखते हुए अकील अहमद गन्ना चेयरमैन तुलसीपुर और सलमान खान मुंब्रा मुंबई ने अपने साथी नदीम अहमद और साबिर अली के साथ टीम तुलसीपुर की बुनियाद डाली। साथ ही टीम तुलसीपुर में शोएब अहमद, उमर खान, फैसल अकील, नियाज़ अहमद शायर , आसिम, अरशद कमाल अकील बाबा को शामिल किया।

कैसे काम करती है ये टीम

ज़रूरत मन्दों तक राशन पहुंचना प्राथमिकता है। इसके साथ ही सेनेटाइजर व मास्क वितरण किया जाता है। टीम के साथी जनता को जागरूक करने का काम करते हैं। आर्थिक रूप से कमजोर परिवार को लगातार मदद दी जाती है।

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you