स्वास्थ्य आंखों से हमेशा के लिए हट जाएगा चश्मा, बस...

आंखों से हमेशा के लिए हट जाएगा चश्मा, बस खाना होगा रोज ये चीज

-

हमारे रोजाना के खाने में कई ऐसी चीजें हैं जिसमें न्यूट्रिशन का खजाना होता है। लेकिन हम उनके खज़ानों से अनजान रहते हैं और हम उन चीजों को नहीं खा पाते हैं एक ऐसी ही चीज है हरा चना। हरे चने में बहुत सारे फाइबर, कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन और आयरन होता है। यह शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है बल्कि मस्तिष्क की गतिविधियों को भी तेज करते हैं।

- Advertisement -

चश्मा

यह सब्जी के रूप में बहुत ही स्वादिष्ट लगता है। इसके नियमित सेवन से आपकी शारीरिक कमजोरी की समस्या भी दूर हो जाती है। हरे चने के उपयोग कई तरह से हम लोग कर सकते हैं। इसकी हम सब्जी, कटलेट, पकौड़ी या फिर चटनी भी बना सकते हैं। इन्हें उबालकर साधारण तरीके से भी खा सकते हैं। आज मैं आपको हरे चनो के फायदे बताऊंगी।

कमलनाथ ने कर दी किसानों और नौजवानों को खुश करने वाली बात, जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला

आंखों के लिए फायदेमंद

हरे चने में बहुत सारे विटामिन पाए जाते हैं जो आपकी आंखों के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होते हैं। इन चनो को खाते ही आपका चश्मा तुरंत हट जाएगा।

केलोस्ट्रोल पर कंट्रोल
हरे चने का इस्तेमाल हार्ड के लिए भी काफी फायदेमंद साबित हो सकता है और शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी नियंत्रित रहता है।

हरे चने में फाइबर पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। जो शरीर के पाचन को सही रखता है यह वजन घटाने में भी काफी प्रभावी होता है।

रक्त शर्करा का स्तर सामान्य रखने के लिए भी प्रयोग किया जाता है। इसके लिए आप रोजाना नाश्ते के रूप में सुबह हरे चनों का उपयोग कर सकते हैं।

श्रीलंका के विवादास्पद प्रधानमंत्री राजपक्षे का इस्तीफा, गहराया संवैधानिक संकट

यह बालों और त्वचा की झुर्रियो के साथ आपको युवा रखने में भी मददगार होता है।

इसमें आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है अगर आप इसे नियमित रूप से उपयोग में लेते हैं। तो फिर आपके शरीर में रक्त की कमी जैसी कोई भी शिकायत नहीं होती है।

यह आपकी हड्डियों को भी मजबूत बनाता है अगर आप सुबह के नाश्ते में हरे चने का इस्तेमाल करते हैं तो हड्डियों से संबंधित सारी बीमारियां आपसे कोसों दूर रहेंगी।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you