न्यूज़ प्रदेश हर घर होगा बिजली से रोशन... मंत्री जी ने...

हर घर होगा बिजली से रोशन… मंत्री जी ने कर दिया ऐलान, बस करना होगा इस तारीख का इंतजार

-

लखनऊ। अब उत्तर प्रदेश का हर घर जल्द होगा रोशन, साथ ही 24 घंटे मिलेगी बिजली। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं। ये कहना है केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री स्वतंत्र (प्रभार) आरके सिंह का। मंत्री जी ने ऐलान किया है कि यूपी का हर घर 31 दिसंबर तक बिजली से रोशन होगा।

- Advertisement -

आरके सिंह का कहना है कि केंद्र सरकार ने यूपी में बिजली वितरण व्यवस्था सुधारने के लिए 14 हजार करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी है।

आरके सिंह ने गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा व अन्य अधिकारियों के साथ सौभाग्य योजना के काम की समीक्षा की। बाद में उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि यूपी में सौभाग्य योजना के काम बेहतर हो रहा है। इसलिए केंद्र सरकार ने निर्णय लिया कि यूपी में हर घर को बिजली कनेक्शन देने का काम इस साल दिसंबर तक पूरा कर लिया जाए।

एक नजर इस पर भी:- राज्य का पहला मुख्यमंत्री जिसने सिर्फ एक दिन पहना काला चश्मा!

आपको बता दें सरकार ने पहले यह काम अगले साल 31 मार्च तक पूरा करने की योजना बनाई थी।

मंत्री जी का कहना है कि इस मौके पर बाकायदा समारोह कर जश्न मनाया जायेगा।

उनका कहना है कि जिन गांव में बिजली पूरी तरह पहुँच जायेगी, वहां ऊर्जा विभाग के वाहन घूम कर यह देखेंगे कि कोई घर बिजली की पहुंच से छूट तो नहीं गया है। अगर कोई घर छूट जाता है तो वाहन पर ही वह रेजिट्रेशन कर सकते हैं।

एक नजर इस पर भी:- एक ऐसा मुख्यमंत्री जिसकी कुर्सी के पीछे पड़ गया परिवार!

मंत्री ने कहा कि बिजली की चोरी करना अपराध है और यह किसी भी सूरत में बर्दाश नहीं किया जाएगा। कटिया लगा कर बिजली चोरी करने व वैध कनेक्शन न लेने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यूपी में एक करोड प्रीपेड मीटर और 40 लाख स्मार्ट मीटर लगाये जाएंगे। यह काम पूरा होने पर जिसके पूरा बिलिंग एजेंसियों इस काम से हटा दिया जाएगा और बिल में गड़बड़ी, सही रीडिंग न होने जैसी कई समस्याएं नहीं रहेंगी।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you