मनोरंजन ईशा गुप्ता ने मचाई इंस्टा पर हलचल, शेयर की...

ईशा गुप्ता ने मचाई इंस्टा पर हलचल, शेयर की टॉपलस तस्वीरें

-

बॉलीवुड की सुपर हॉट एक्ट्रेस ईशा गुप्ता ने एक बार फिर अपने टॉपलेस तस्वीरें से सोशल मीडिया पर आग लगा दी है. ईशा ने तस्वीरें अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की है. इन तस्वीरों में ईशा बहुत ही खूबसूरत और हॉट लग रही हैं.

- Advertisement -

ईशा गुप्ता

ऐसा पहली बार नहीं है, जब ईशा ने हॉट और बोल्ड तस्वीरें शेयर की हैं. इससे पहले भी सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरों से कहर ढा चुकी हैं.

ईशा काफी समय से सिल्वर स्क्रीन पर भले ही नजर ना आई हूं, लेकिन सोशल मीडिया पर उनकी मौजूदगी हमेशा बनी रहती है. ईशा के करियर की बात करें तो 2007 में फेमिना मिस इंडिया इंटरनेशनल का खिताब अपने नाम करने के बाद उन्होंने मॉडलिंग और बॉलीवुड में एंट्री की.

 

View this post on Instagram

?

A post shared by Esha Gupta (@egupta) on

ईशा सोशल मीडिया पर बिकनी, न्यूड, सेमी न्यूड तस्वीरें शेयर कर चुकी हैं. तस्वीरें शेयर करते ही उन पर लाइक्स की भरमार हो जाती है. ईशा के इंस्टाग्राम फॉलोअर्स की संख्या 3.3 मिलियन है.

View this post on Instagram

? @rahuljhangiani

A post shared by Esha Gupta (@egupta) on

ईशा अपनी फिटनेस का बहुत ख्याल रखती हैं. ईशा वर्कआउट की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करती रहती हैं. ईशा गुप्ता के ये फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते रहते हैं.

View this post on Instagram

The eyes chico they never lie

A post shared by Esha Gupta (@egupta) on

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you