न्यूज़ प्रदेश पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, गोलियों की आवाज...

पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, गोलियों की आवाज से गूंजा इलाका

-

ग्रेटर नोएडा। एक बार फिर पुलिस और बदमाशों के बीच एनकाउंटर हुआ। गुरुवार देर शाम ग्रेटर नोएडा के बादलपुर थाने इलाके में पुलिस चेकिंग के दौरान दो बदमाश फायरिंग करके भागने लगे। पुलिस ने दोनो को दुजाना गांव के पास अम्बेडकर पार्क के पीछे के जंगलों में घेर लिया। क्रॉस फायरिंग में एक बदमाश के पैर में गोली लगी, जबकि दूसरा भागने में कामयाब रहा।

- Advertisement -

एनकाउंटर

पुलिस के मुताबिक, बादलपुर इलाके में बैरिकेड लगाकर चेकिंग की जा रही थी। तभी दो संदिग्ध दिख। पुलिस ने दोनों को रुकने के लिए इशारा किया, लेकिन उन दोनों ने पुलिस टीम पर गोली चला दी और भागने लगे।

यह भी पढ़ें:-  राहुल गांधी को बड़ा झटका, राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को दी क्लीन चिट

मौके पर मौजूद पुलिस ने तुरंत उन बदमाशों का पीछा किया। पुलिस ने दोनो को दुजाना गांव के पास अम्बेडकर पार्क के पीछे के जंगलों में घेर लिया। बदमाशों और पुलिस के बीच हुई क्रॉस फायरिंग में एक बदमाश के पैर में गोली लग गई, जबकि उसका साथी मौके से फरार हो गया।

जिस बदमाश को गोली लगी है, उसका नाम नफीस है और उस पर हत्या, लूट और डकैती के कई मामले दर्ज हैं। नफीस ने अभी कुछ दिन पहले ही अपने साथियों के साथ मिलकर एक कैंटर लूट लिया था और इसी लूट में एक शख्स की हत्या भी कर दी थी।

नफीस पर पुलिस ने 25 हजार का इनाम भी घोषित किया था। मौके से भाग निकले बदमाश का नाम इमरान है। पुलिस का कहना है कि इमरान की तलाश की जा रही है। पुलिस को मौके से एक तमंचा, कुछ कारतूस और एक बाइक बरामद हुई है।

यह भी पढ़ें:-  नेपाल ने बैन किए ‘भारतीय नोट’, उठानी पड़ सकती है ये परेशानी

नफीस बागपत का रहने वाला है लेकिन पिछले कुछ महीने से नफीस लोनी में मकान किराए पर लेकर रह रहा था। यहीं से नफीस अपना गैंग चला रहा था। पुलिस के मुताबिक नफीस के कुछ और साथी भी हो सकते हैं, जिनकी जानकारी पूछताछ के बाद मिलेगी। फिलहाल नफीस अस्पताल में भर्ती है।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you