न्यूज़ देश Corona से हुआ Crowd-Na.

Corona से हुआ Crowd-Na.

-

आज दुनिया भर में Covid-19 का आतंक फैला हुआ है, covid-19 यानि कोरोना वायरस एक ऐसा वायरस है जो मानव शरीर में जाने के कुछ क्षण बाद अपना असर दिखाता है, यह वायरस व्यक्ति के अंदर मामूली जुकाम, बुखार से शुरू होकर स्वांस की भयानक बीमरी बन जाता है। ये वायरस ज्यादातर उन लोगों पर भरी पड़ रहा है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है। आज कोरोना नाम का ये वायरस चीन से लेकर इटली, ईरान , साउथ कोरिया, फ्रांस, जेर्मनी, मलेशिया, स्पेन, थाईलैंड, यूके, सिंगापुर और भारत तक पहुंच चुका है।

- Advertisement -

31 दिसंबर, 2019 को विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) ने चीन के शहर वुहान में निमोनिया के कई मामलों के पीछे एक पूर्व-अज्ञात वायरस की पहली रिपोर्ट सुनी, वास्तव में चीन तक सिमित महामारी के रूप में शुरू हुआ कोरोना वायरस अब एकवैश्विक महामारी बन गया है।आज दुनियाभर से कोरोना वायरस के 236,920 केस सामने आये हैं जिसमे 9,829 लोगों की मौत हो चुकी है और 86,675 लोगों को इस वायरस की मार से निकाला गया है।

यदि कोई व्यक्ति इस वायरस से ग्रसित है तो उस व्यक्ति के स्पर्श से यह वायरस अन्य लोगों तक भी पंहुच सकता है। इस वायरस से ग्रसित व्यक्ति के द्वारा छींकने या खांसने से हवा में इसके वायरस फ़ैल जाते है, जिससे आस-पास वाले व्यक्ति भी इस वायरस के चपेट में आ सकते हैं।

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए भारत समेत कई अन्य देशों में भीड़-भाड़ वाले इलाकों जैसे सिनेमा हॉल,  मॉल, क्लब आदि को बंद कर दिय गया है, देश विदेश की यात्राओं प् भी रोक लगा दी गयी है और एक जगह पर दो से अधिक व्यक्तियों के मिलने पर भी रोक लगा दी गयी है कई ऑफिसों में वर्क फ्रॉम होम का सिस्टम भी लागू कर दिया गया है जिससे की लोग बाहर न निकले और वायरस की चपेट में ना आये।

भारत के कई राज्यों और शहरों से कोरोना वायरस के मामले सामने आये हैं , जो की भारत वासियों के लिए चिंता का विषय है। भारत में महारष्ट्र से 42 , केरला से 27 , हरयाणा से 16 , उत्तर प्रदेश से 16 , कर्नाटक से 13 , देहली-एनटीसी से 10, राजस्थान से 4, जम्मू-कश्मीर से 3, पंजाब से 1, तमिल नाडु से 1 , आंध्र प्रदेश से 1, उत्तराखंड से भी कोरोना वायरस का एक केस सामने आया है।  भारत सरकार इस वायरस से लड़ने के लिए कई सख्त कदम उठा रही है।

कोरोना वायरस से बचने के लिए फेस मास्क और सेनेटाइजर ही एक उपाय है, बाजारों में सेनेटाइजर और मास्क की कमी आ रही है, ऐसे में चिंता की कोई बात नहीं है क्यूंकि 70 % एलकोहॉल में 30% एलोवेरा मिलाकर घर पर ही सेनेटाइजर तैयार किया जा सकता है। इस वायरस से बचने के लिए हाथों को लगातार साफ़ करते रहिये और सोशल डिस्टेंस बनाये रखिये।

 

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you