खेल IPL: 4 रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाड़ी जिन्हें RCB...

IPL: 4 रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाड़ी जिन्हें RCB छोड़ने के बाद मिली सफलता

-

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में उन कुछ पक्षों में से एक रहा है, जो 2008 में अपनी स्थापना के बाद से टूर्नामेंट का हिस्सा होने के बावजूद लीग को जीते बिना गए थे।

- Advertisement -

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर कुछ मौकों पर आईपीएल जीतने के करीब पहुंची, लेकिन खिताब ने उन्हें अब तक बाहर कर दिया है। वास्तव में, RCB ने आईपीएल इतिहास में जितने जीते हैं, उससे कहीं ज्यादा हार और 47.45 के नीचे-बराबर जीत प्रतिशत है।

हाल के दिनों में, RCB पिछले 3 वर्षों में दो बार तालिका के निचले स्तर पर रही, खराब से खराब होती चली गई। विराट कोहली के नेतृत्व में टीम ने निरंतरता के लिए संघर्ष किया है और परिणाम प्रभावशाली रहे हैं।

आरसीबी मुंबई इंडियंस, कोलकाता नाइट राइडर्स, चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद की पसंद के विपरीत, एक सुसंगत कोर यूनिट के आसपास एक टीम का निर्माण नहीं कर पाया है। कप्तान विराट कोहली और स्टार बल्लेबाज एबी डिविलियर्स को छोड़ दें, तो कई बड़े नाम वर्षों से चले आ रहे हैं।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you