चर्चा में आपके लिए उपलब्ध 24x7, केंद्र और राज्यों को घाटे...

आपके लिए उपलब्ध 24×7, केंद्र और राज्यों को घाटे में कटौती करने के लिए एक साथ काम करना चाहिए: मुख्यमंत्रियों को पी.एम.

-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सभी प्रमुख राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंस की, जिसमें जमीन पर स्थिति का जायजा लेने और राष्ट्रव्यापी तालाबंदी के बारे में सुझावों को रिकॉर्ड करने के लिए 14 अप्रैल को समाप्त होने की घोषणा की। प्रधान मंत्री द्वारा उपन्यास कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के प्रयास में, जिसने आज तक भारत में 235 से अधिक लोगों के जीवन का दावा किया है।

- Advertisement -

वीडियो कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने वाले मुख्यमंत्रियों में योगी आदित्यनाथ (यूपी), उद्धव ठाकरे (महाराष्ट्र), अमरिंदर सिंह (पंजाब), नीतीश कुमार (बिहार), ममता बनर्जी (पश्चिम बंगाल), मनोहर लाल खट्टर (हरियाणा) शामिल थे। अशोक गहलोत (राजस्थान) और के चंद्रशेखर राव (तेलंगाना), बीएस येदियुरप्पा (कर्नाटक), भूपेश बघेल (छत्तीसगढ़) पिनारयी विजयन (केरल), नवीन पटनायक (ओडिशा, वी नारायणसामी (पुडुचेरी), और शिवराज सिंह चौहान (मध्य प्रदेश) दूसरों के बीच में। वीडियो कॉन्फ्रेंस का उद्देश्य केंद्र सरकार को राष्ट्रव्यापी तालाबंदी के विस्तार पर अंतिम कॉल करने से पहले सभी संभावनाओं पर विचार करना था।

वीडियो कॉन्फ्रेंस की शुरुआत सुबह 11 बजे पीएम नरेंद्र मोदी ने होममेड मास्क पहनकर की, जिसकी सिफारिश स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने की थी। प्रधान मंत्री की शुरुआती टिप्पणी के अनुसार, “मैं आप सभी के संपर्क में हूं। यदि कोई महत्वपूर्ण बात है, तो हम फोन पर बात कर सकते हैं। मैं आपके लिए 24×7 उपलब्ध हूं।”

वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान, महाराष्ट्र, पंजाब और दिल्ली के मुख्यमंत्रियों ने सुझाव दिया कि हेल्थकेयर सिस्टम को प्रभावी ढंग से हाथ में संकट से निपटने के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ाया जा सकता है। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कोविद -19 के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए केंद्र सरकार से विशेष पैकेज की मांग की, जबकि पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने रैपिड टेस्टिंग किट की तेज आपूर्ति के अलावा उद्योगों और कृषि क्षेत्र के लिए विशेष रियायतें मांगी।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने संकट के इस समय में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों की सहायता के लिए केंद्र सरकार से परीक्षण सुविधाओं को बढ़ाने की माँग की। उन्होंने किसानों के लिए बोनस की भी सिफारिश की। अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘भले ही केंद्र सरकार प्रतिबंधों में ढील दे रही हो, लेकिन किसी भी हालत में सड़कों, रेलवे या हवाई मार्ग पर परिवहन नहीं किया जाना चाहिए।’

इस बीच, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मुख्यमंत्रियों की सलाह मांगी है कि सेवाओं के अधिक क्षेत्रों को छूट की सूची में जोड़ा जाए या नहीं।

यह दूसरी आभासी बैठक है जिसे प्रधानमंत्री ने विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ आयोजित किया है। लॉकडाउन लागू होने से पहले 20 मार्च को पहली बैठक में, पीएम मोदी ने भारत में उपन्यास कोरोनावायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के उपाय की मांग की थी। प्रधानमंत्री ने दो अप्रैल को विपक्षी दलों के नेताओं के साथ एक वीडियो बातचीत के दौरान चल रहे तालाबंदी से “चौंका” निकलने का भी प्रस्ताव रखा था।

ओडिशा और पंजाब राज्यों ने पहले ही 30 अप्रैल तक तालाबंदी कर दी है।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you