चर्चा में राफेल डील : शाह के पलटवार के बाद काँग्रेस...

राफेल डील : शाह के पलटवार के बाद काँग्रेस का नया दांव, पूछा ये बड़ा सवाल     

-

नई दिल्ली। राफेल डील पर काँग्रेस और मोदी सरकार के बीच संग्राम खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद कांग्रेस ने एक बार फिर केंद्र सरकार से सवाल पूछे हैं।

- Advertisement -

पूर्व वित्त मंत्री पी॰ चिदंबरम ने ट्वीट करके पूछा कि सरकार ने सिर्फ 36 विमान क्यों खरीदे, अगर एनडीए सरकार को 9 से 20 फीसदी तक सस्ते दाम पर विमान मिल रहे तो 126 विमानों की खरीद क्यों नहीं की गई।

राफेल डील

चिदंबरम ने यह भी पूछा, ‘वायुसेना का कहना है कि इस लड़ाकू विमान की ताकत कम हो गई है और कम से कम 7 स्क्वाड्रन (126 विमान) की जरूरत है। फिर, सरकार ने केवल 2 स्क्वाड्रन (36 विमान) क्यों खरीदे। राफेल 126 विमान बेचने को तैयार है। मोदी सरकार के वित्त मंत्रालय के मुताबिक कीमत सस्ती है। फिर, केवल 36 विमान क्यों खरीदें? क्या कोई इस रहस्य को हल करेगा?

एक बिहारी सबपर भारी… ‘गुप्ता’ से लेकर ‘पृथ्वी शॉ’ तक का सफरनामा, पढ़ें कई रोचक बातें

पूर्व वित्त मंत्री ने आरोप लगाया कि 126 विमानों की पेशकश के दौरान केवल 36 विमान खरीदकर, सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ गंभीरता से समझौता किया है।

बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील को लेकर याचिका खारिज कर दी थी। कोर्ट ने कहा था कि डील पर संदेह नहीं किया जा सकता है। जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि जनता को गुमराह करने और सेना के बारे में संदेह पैदा करने के लिए राहुल गांधी को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। शाह ने कहा कि देश को गुमराह करने की ऐसी कोशिश पहले कभी नहीं हुई।

इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि पूरा हिंदुस्तान समझता है कि चौकीदार चोर है, और वे इसको साबित करके दिखाएंगे कि हिंदुस्तान का प्रधानमंत्री अनिल अंबानी का दोस्त है और उसने अनिल अंबानी से चोरी करवाई है।

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you