चर्चा में ऑटो घटक निर्माताओं ने कोविद -19 प्रभाव को ऑफसेट...

ऑटो घटक निर्माताओं ने कोविद -19 प्रभाव को ऑफसेट करने के लिए बेलआउट पैकेज के लिए सरकार से आग्रह किया

-

ऑटोमोबाइल कंपोनेंट मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (ACMA) ने शुक्रवार को, संघ सरकार से अपने व्यवसायों पर कोविद – 19 महामारी के प्रतिकूल पहलू से मोटर वाहन घटक निर्माताओं की रक्षा के लिए उपायों की मेजबानी करने का आग्रह किया। जैसा कि ज्यादातर ऑटोमोबाइल निर्माताओं ने महामारी के कारण निर्माण बंद कर दिया है, घटक निर्माता – ज्यादातर छोटे और मध्यम उद्यम – को अपने नकदी प्रवाह का प्रबंधन करना मुश्किल हो रहा है।

- Advertisement -

लॉबी समूह के अनुसार, संघ सरकार को बैंकों से ऐसी कंपनियों के लिए खराब ऋण वर्गीकरण मानदंडों में ढील देने और उधार मानदंडों में ढील देने के लिए कहना चाहिए। इन निर्माताओं को एक निश्चित अवधि के लिए बिजली जैसे उपयोगिता बिलों का भुगतान करने से भी छूट दी जानी चाहिए।

चूंकि अधिकांश घटक निर्माताओं ने अपने उत्पादों को बीएस 6 मानदंडों में अपग्रेड करने के लिए काफी निवेश करने के लिए ऋण उठाया है, इसलिए संक्रमण के समय महामारी के अचानक प्रकोप के कारण उत्पादन में व्यवधान होने से गैर-निष्पादित ऋणों में वृद्धि हो सकती है। क्षेत्र।

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you