Most recent articles by:

Manju Gupta

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी। इसके तहत स्वास्थ्य सेवाओं से...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती है। बोर्ड ने इसके लिए...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़ की चपत लग चुकी है।...

जानिए किडनी को किस तरह नुकसान पहुंचा रहा कोरोना

कोरोना की दूसरी लहर में किडनी रोगियों को खासतौर पर सतर्क रहने की जरूरत है। सार्स-कोव-2 वायरस से संक्रमित होकर अस्पताल पहुंचने वाले लगभग...

जानिए क्या है राम मंदिर ट्रस्ट के घोटाले की पूरी कहानी

अयोध्या में बन रहे भगवान राम के भव्य मंदिर के लिए खरीदी गई जमीन पर विवाद तेजी पकड़ रहा है। राम मंदिर ट्रस्ट के...

जानिए दिल्ली में किन-किन स्थानों पर हुआ अनलाॅक और किन जगहों पर अभी भी रहेगा लॉकडाउन

कोरोना संक्रमण कम होने के साथ सामान्य जीवन पटरी पर लौटने लगा है। राजधानी दिल्ली में आज से बाजार, मॉल और शापिंग कांप्लेक्स पूरी...

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश में भाजपा का मिशन मोड

बीते माह उत्तर प्रदेश को लेकर मिले अंदरूनी आकलन से चिंतित भाजपा नेतृत्व ने यूपी के लिए मिशन 2022 की रूपरेखा तैयार कर ली...

उत्तर प्रदेश में हो रहा कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़ों में घोटाला

करोना से मौत होने पर परिजनों को बीमा राशि नहीं मिल पा रही है। मृत्यु प्रमाण पत्र में कोरोना से मौत का जिक्र ना...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।