न्यूज़ प्रदेश यूपी में ‘बेटियों’ की सुरक्षा की खुली पोल, कॉलेज...

यूपी में ‘बेटियों’ की सुरक्षा की खुली पोल, कॉलेज जा रही छात्राओं को कार में खींचने की कोशिश

-

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश में महिला उत्पीड़न में कमी और बहन-बेटियों की सुरक्षा का दावा सत्तापक्ष की ओर से भले ही किया जा रहा हो, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है।

- Advertisement -

यूपी

ताजा मामला मुरादाबाद के पाकबड़ा थाना क्षेत्र का सामने आया है, जहां कॉलेज जा रही तीन छात्राओं को सरेराह गुंडों ने जबरन अपनी इनोवा कार में खींचने का प्रयास किया। दिन-दहाड़े हुई इस घटना से कानून-व्यवस्था की पोल खुल गई है।

पीड़ित छात्राओं में से एक ने कहा, “हम तीनों छात्राएं संभल जिले की हैं। हम रोज की तरह संभल से मुरादाबाद र्तीथकर महावीर यूनिवर्सिटी जाने के लिए निकली थीं। जीरो पॉइंट बाइपास पर हम बस से उतरकर कॉलेज जाने के लिए ऑटो कर रही थीं, तभी हमारे सामने इनोवा कार आकर रुकी। कार में बैठे गुंडे बदतमीजी करते हुए जबरदस्ती पकड़कर गाड़ी में खींचने लगे। जब मैंने विरोध किया तो उन्होंने खुद को कॉलेज का स्टाफ बताया और हमें जबरन गाड़ी में बिठाने लगे।”

छात्रा ने आगे कहा, “हमने उनसे परिचय मांगा तो वे भड़क गए और मारपीट कर जबरदस्ती करने लगे। हमारे कपड़े तक फाड़ दिए। तभी कॉलेज के एक छात्र जयेश ने हमें देखा। वह हमें बचाने के लिए आ गया। वह जैसे ही मोबाइल पर 100 नंबर लगाने लगा, गुंडों ने उसके सिर पर पीछे से डंडे से वार कर दिया और फरार हो गए।”

बताया जा रहा है कि छात्राओं को बचाने आया छात्र जयेश संभल जिले के पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष राजेश सिंघल का बेटा है। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने छात्राओं समेत उसे अस्पताल भेज दिया।

क्षेत्राधिकारी (हाइवे) राजेश कुमार ने कहा, “हां, यह मामला संज्ञान में आया है। छात्राओं द्वारा थाने में तहरीर दी गई है। मामले की जांच की जा रही है। घायल को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है। इस मामले में कार्रवाई शुरू कर दी गई है।”

साभार- आईएएनएस

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you