न्यूज़ देश DUSU अध्यक्ष को नहीं पता अपने HOD तक का...

DUSU अध्यक्ष को नहीं पता अपने HOD तक का नाम, तो क्यों न उठे डिग्री पर सवाल?

-

नई दिल्ली। दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ चुनाव में जिस तरीके का जूनून देखने को मिला था। परिणाम के बाद उससे कहीं ज्यादा शोर-शराबा रहा। जश्न तो लगभग थम चुका था। लेकिन डीयू छात्रसंघ के अध्यक्ष अंकिव बैसोया ने कुछ ऐसा कर दिया है कि सियासत फिर से गर्म हो गयी है।

- Advertisement -

अंकिव बैसोया

दरअसल, नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) ने उन पर फर्जी डिग्री के जरिए डीयू में एडमिशन लेने का आरोप लगाया है। इस आरोप पर अपनी सफाई में अंकिव ने कहा है कि एनएसयूआई वक्त बर्बाद करने के लिए ऐसे अनर्गल आरोप लगा रही है।

वहीँ अंकिव ने कहा कि एनएसयूआई ने पहले ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा उठाया, जिसमें वह फेल हो गई। अब ये फर्जी डिग्री का आरोप लगा रहे हैं। क्योंकि ये चाहते हैं कि हम इन्हीं सब में फंसे रहें और कार्यकाल खत्म हो जाए।’

इसके बाद अंकिव से उनकी उस डिग्री के बारे में पूछा गया जिसे एनएसयूआई फर्जी बता रही है, तो अंकिव ने अपनी पढ़ाई में बारे में जानकारी दी। अंकिव ने बताया कि उन्होंने थिरुवल्लूर यूनिवर्सिटी से 2013-2016 के बीच ग्रेजुएशन पूरी की।

जब उनसे ग्रेजुएशन के विषय के बारे में पूछा गया तो वह सिर्फ इंग्लिश के बारे में बता पाए। उन्होंने बताया, ‘इंग्लिश और स्किल बेस्ड सब्जेक्ट्स मेरी प्राथमिकता में रहते थे और उनमें मेरे नंबर भी ठीक हैं।’

हालांकि, जब रिपोर्टर ने नवनिर्वाचित अध्यक्ष अंकिव से उनकी ग्रेजुएशन डिग्री और यूनिवर्सिटी के बारे में सवाल किए, तो वह अपने टीचर्स के नाम तक नहीं बता पाए।

भूल गये अपने टीचर का नाम

ग्रेजुएश में उन्हें किन टीचर्स ने पढ़ाया। इसके बारे में अंकिव कुछ नहीं बता सके। उन्होंने कहा कि एचओडी (HOD) या टीचर का नाम ध्यान नहीं आ रहा है। जैसे ही याद आएगा बताऊंगा।

2 साल हो गए ग्रेजुएशन किए हुए। वहां आना जाना लगा रहता था। ऐसा नहीं था कि पूरे टाइम वहीं रहा। एक दो टीचर हैं जो ध्यान में आ रहे हैं। नाम अच्छे से याद नहीं आ रहा है, जैसे ही आएगा आपको बताऊंगा।’

अपने बचाव में अंकिव ने ये भी बताया कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद ही एडमिशन होता है। अंकिव ने ये भी कहा कि अगर इस मामले में कोई जांच होती है, वह उसमें पूरा सहयोग करेंगे।

हाल ही संपन्न हुए डूसू चुनाव

इसी महीने संपन्न हुए डूसू चुनाव में अध्यक्ष पद पर एबीवीपी के अंकिव बैसोया ने जीत दर्ज की है। उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव पद भी एबीवीपी के खाते में गया है। जबकि एनएसयूआई को सिर्फ सचिव पद पर जीत मिली है। अंकिव को 20467 वोट मिले थे। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी सनी छिल्लर को 1744 वोट से हराया था।

लेकिन अब जब नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) ने डिग्री को लेकर उनके खिलाफ मोर्चा खोल रखा है, तो उसके बचाव में वह और क्या क्या पैंतरे आजमाते हैं। यह आगे आने वाला वकत ही बताएगा।

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you