चर्चा में अखिलेश को नहीं रास आ रहा राहुल गांधी का...

अखिलेश को नहीं रास आ रहा राहुल गांधी का साथ, ये बनी नाराजगी की बड़ी वजह

-

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव मध्य प्रदेश चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद से  ही खासे नाराज हैं। सपा की ओर से साफ-साफ शब्दों में कह दिया है कि वह आगामी लोकसभा चुनाव में गठबंधन करेंगे लेकिन इसमें कांग्रेस शामिल नहीं होगी।

- Advertisement -

अखिलेश

साथ ही अखिलेश यादव का कहना है कि वह जल्द ही तेलंगाना के मुख्यमंत्री और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष चंद्रशेखर राव से मुलाकात करेंगे। केसीआर बीजेपी और कांग्रेस से अलग फेडरल फ्रंट बनाने की कोशिश में जुटे हैं।

यह भी पढ़ें:- हर महीने खाते में आने वाले हैं पैसे, मोदी सरकार ने बना ली योजना!

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष ने कहा, “हमने मध्य प्रदेश में कांग्रेस को बिना शर्त समर्थन दिया है, फिर भी कांग्रेस ने हमारे विधायक को मंत्री नहीं बनाया। ऐसी हरकत कर कांग्रेस ने यूपी में हमारा रास्ता साफ कर दिया है।”

दरअसल मध्य प्रदेश में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है और समाजवादी पार्टी के विधायक यहां कांग्रेस की सरकार को समर्थन दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें:-  आज का राशिफल, 28 दिसंबर 2018, दिन- शुक्रवार

पहले भी अखिलेश यादव कह चुके है कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव को इस दिशा में (अलग मोर्चा) काम करने के लिए बधाई देता हूं। वह पिछले कई महीनों से सभी दलों को साथ लाने की कोशिश और संघीय मोर्चा तैयार करने की कवायद में जुटे हैं। मैं उनसे मुलाकात करने हैदराबाद जाऊंगा।

आपको बता दें कि अखिलेश यादव और बीएसपी अध्यक्ष मायावती 2019 लोकसभा चुनाव में पहले ही साथ लड़ने का एलान कर चुके हैं।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you