चर्चा में विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी...

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

-

नई दिल्ली: 20 नवम्बर 2021 हक की लड़ाई लड़ रहे किसानो के लिए बड़ा और ऐतिहासिक दिन रहा। देश के प्रधानमंत्री ने विवादित कृषि कानूनो को वापस लेने का ऐलान कर दिया। साथ ही प्रधानमंत्री ने सिख किसानो से आदोलन को खत्म करके वापस लौटने की अपील भी की। हालॉकिं किसान नेता राकेश टिकैत सहित किसानों ने कानून वापसी से साथ-साथ MSP (न्यूनतम सर्मथन मूल्य) लागू हो जाने तक धरने को जारी रखने का ऐलान भी कर दिया।

- Advertisement -

सूत्रों की माने तो सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं। सरकारी सूत्रों ने सोमवार को जानकारी दी कि तीनों विवादित बिलों को हटाने के लिए एक ही विस्तृत विधेयक तैयार किया जा रहा है और इस पर प्रधानमंत्री कार्यालय की मंजूरी का इंतजार है।

बिल वापसी के बाद से किसान एकता मोर्चा ने प्रधानमंत्री मोदी के नाम एक खूला पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होने MSP के समेत 6 मांगे रखी हैं। इन मांगों में सभी किसानों व कृषि उपज पर न्यूनतम सर्मथन मूल्य की गारंटी, सरकार द्वारा विद्युत अधिनियम संसोधन विधेयक 2020/2021 के ड्राफ्ट को वापस लेना, किसानों के खिलाफ दर्ज मुकदमो को खारिज करना, केन्द्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी को बर्खास्त व गिरफ्तार करना तथा आदोलन के दौरान जान गवाने वाले 700 से ज्यादा किसानों के परिवारों को मुआवजा और पुर्नवास की मांग आदि शामिल है।

प्रधानमंत्री के बिल वापसी को लेकर राजनितिक गलियारों से लेकर सड़क तक लोगो के अलग अलग प्रतिक्रिया देखने को मिल रही हैं। जहां एक तबका इसको प्रधानमंत्री के हृदय परिवर्तन का नाम दे रहा है तो वहीं कुछ लोग इस कदम को आगामी उत्तर प्रदेश चुनावों से भी जोड़ कर देख रहें हैं। खैर सौ बातों की एक बात ये है की किसानों के पिछले 18 महीनों से चली आ रही आंदोलन एक सुखद और निर्णायक अंत की ओर अग्रसर है।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you