Uncategorized लोकप्रिय बालीवुड निर्देशक-अभिनेता विसू का चेन्नई में 74 वर्ष...

लोकप्रिय बालीवुड निर्देशक-अभिनेता विसू का चेन्नई में 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया

-

अभिनेता-निर्देशक-पटकथा लेखक विसू का निधन 74 साल की उम्र में हो गया है।

- Advertisement -

60 के दशक में अभिनय करने वाले वयोवृद्ध कॉलीवुड निर्देशक विशु का चेन्नई के एक निजी अस्पताल में हृदय गति रुकने के कारण निधन हो गया। कथित तौर पर, वह पिछले कुछ वर्षों से गुर्दे से संबंधित बीमारियों से भी पीड़ित थे।

74 वर्ष की आयु के विशु ने एक निजी अस्पताल में शाम 4:15 बजे अंतिम सांस ली। उनके नश्वर अवशेषों को चेन्नई के थोरिपक्कम में उनके निवास पर लाया गया है, जहां लोग 23 मार्च को उनके सम्मान का भुगतान कर सकते हैं। उनका अंतिम संस्कार शाम 4 बजे बेसेंट नगर श्मशान में होगा।

वह अपनी पत्नी सुंधारी और लवण्या, संगीता और कल्पना से बचता है।

उन्होंने 60 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया था और 25 फिल्मों का निर्देशन किया है, जिन्हें अभी भी सांस्कृतिक क्लासिक्स माना जाता है। उनके कुछ डायरेक्टोरियल वेंचर्स में संसारम अधु मिनसारम, थिरुमथी ओरु वगुमथी, नेन्गा नाला इरुक्कनम, मेंडूम सावित्री शामिल हैं।

निर्देशक बनने से पहले, उन्होंने प्रसिद्ध फिल्म निर्माता के बालाचंदर के सहायक निर्देशक के रूप में काम किया। उन्होंने अन्य फिल्मों में थिल्लू मुल्लू, नेट्रिकान जैसी उल्लेखनीय फिल्मों के लिए पटकथा लेखक के रूप में भी काम किया है।

विशु को उनके मजाकिया वन-लाइनर्स के लिए जाना जाता था जो मजाकिया और विचारवान थे। उन्होंने इरेटी रोजा, अरुणाचलम और मिडिल क्लास माधवन जैसी फिल्मों में सहायक भूमिकाएँ भी निभाई थीं।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you