चर्चा में पश्चिम बंगाल में भाजपा को मिला मिथुन दा का...

पश्चिम बंगाल में भाजपा को मिला मिथुन दा का साथ! बन सकते हैं पार्टी का सिएम फेस..

-

पश्चिम बंगाल विधानसभा के चुनाव से पहले भाजपा को फिल्म अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती का साथ मिल गया। राज्य के ऐतिहासिक ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री मोदी के रैली में उन्होने भाजपा का झण्डा थाम लिया। इस मौके पर अभिनेता मिथुन ने चुनावी हुंकार भरते हुए कहा कि मैं कोबरा हूं, कोई हक़ छीनेगा तो मैं खड़ा हो जाउंगा।

- Advertisement -

रैली में उपस्थित जन समुह को संबोधित करते हुए मिथुन ने कहा- मैं असली कोबरा हूं, डसूंगा तो तुम फोटो बन जाओगे। मैं जोलधरा सांप नहीं हूं, बेलेबारा सांप भी नहीं हूं, मैं कोबरा हूं। एक दंश में ही काम तमाम कर दूंगा। मंच से मिथुन ने कई फिल्मी डायलॉग्स भी सुनाए। उन्होने अपना मशहुर डायलॉग मारुंगा यहां लाश गिरेगी शमशान में भी सुनाया।

गौरतलब है कि लंबे समय से चर्चा चल रही थी कि मिथुन चक्रवर्ती भाजपा में शामिल होकर पार्टी का सिएम फेस बन सकते हैं। बीते दिनों बंगाल बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने मिथुन से उनके आवास पर मुलाकात की थी। इसके पहले भी संघ प्रमुख मोहन भागवत ने भी मुम्बई में अभिनेता से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद से ही मिथुन का भाजपा में शामिल होने की चर्चाएं तेज़ हो गई थी। इससे पहले मिथुन तृणमूल कांग्रेस की तरफ से राज्यसभा सदस्य बने थे। बाद में 2016 के पोंजी घोटाले में अपना नाम आने के बाद उन्होने स्वास्थ्य कारणों से इस्तीफा दे दिया था।

इसके बाद से अनेक राजनेताओं इस बात पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी है। मिथुन चक्रवर्ती का भाजपा में शामिल हो जाने के बाद भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। उन्होने ट्वीट में लिखा, स्वागतम मिथुन दा! प्रसिध्द अभिनेता श्री मिथुन चक्रवर्ती जी विधिवत रूप से भाजपा में शामिल हो गए हैं।

वहीं तृणमूल सासंद सौगत रॉय ने मिथुन को निशाने पर लेते हुए कहा कि मिथुन कोई आज के स्टार नहीं बल्कि बीतें जमानें के है। साथ ही अभिनेता को नक्सली बताते हुए कहा कि उन्होने चार बार पार्टी बदली है। उन्होने कहा कि मिथुन पहले सीपीएम में थें। बाद में वो तृणमूल कांग्रेस में चले गए, जहां उन्हे राज्यसभा सांसद बनाया गया। आगे सौगत रॉय ने कहा कि भाजपा ने मिथुन को ईडी का डर दिखाया है जिसके चलते वो भाजपा में शामिल हो गए। इसके अलावा तृणमूल सांसद ने मिथुन को बिना साख वाला आदमी बताया। रॉय ने कहा कि मिथुन की कोई क्रेडिबिलिटी नहीं है और ना ही कोई सम्मान है। बंगाल की जनता में इनका कोई प्रभाव नहीं है।
Mithun Chakraborty is not a star of today. He is a star of yesteryears. He has changed parties four times. He was originally a Naxalite, then went to CPM, then he joined TMC & was made a Rajya Sabha MP: TMC MP Saugata Roy (1/2) https://t.co/KEY5R94sbS pic.twitter.com/UMDivXhnGE

— ANI (@ANI) March 7, 2021

बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा के चुनाव 27 मार्च से शुरू होकर आठ चरणों में ख़त्म होंगे। 29 अप्रैल को अंतिम दौर का मतदान होगा और 2 मई को मतों की गिनती होनी है।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you