Uncategorized देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के 18000 से...

देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के 18000 से अधिक मामले, पिछले 24 घंटे में 100 लोगों की मौत

-

देश में कोरोना मामलों की संख्या बढ़ती नजर आ रही है। देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के 18000 से अधिक मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही देश में अब तक कोरोना से संक्रमित हुए लोगों की संख्या बढ़कर 1,12,10,799 हो गई है। देश में अभी 1,84,523 लोगों का इलाज चल रहा है। जो संक्रमण के कुल मामलों की संख्या का 1.65 फीसद है।

- Advertisement -

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ो के अनुसार देश में 24 घंटो में संक्रमण के 18,711 नए मामले सामने आए और 100 और लोगों की मौत के बाद मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 1,57,756 हो गई। इसके पहले 29 जनवरी को संक्रमण के ऩए मामलों की संख्या 18,855 थी।

बता दें की देश में अब तक संक्रमित हुए 1,08,68,520 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। स्वस्थ होने की दर 96.95 फीसद है, जबकि मृत्युदर 1.41 फीसद बनी हुई है। देश में 24 घंटें में जिन 100 लोगों की मृत्यु हुई है, उनमें से 47 फीसद महाराष्ट्र के थे। केरल में 16 और पंजाब में 12 मरीजों की मौत हुई है। इसके साथ ही देश में कोरोना से मरनेवालों की संख्या 1,57,756 हो गई है। जिसमें महाराष्ट्र में 52,440, तमिलनाडु में 12,517, कर्नाटक में 12,359, दिल्ली में 10,919, पश्चिम बंगाल में 10,277, उत्तर प्रदेश में 8,729 और आंध्र प्रदेश में 7,173 लोगों की मौत हुई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को कहा कि भारत में कोरोना महामारी खात्मे की ओर बढ़ रही है। उन्होने यह भी कहा कि कोरोना टीकाकरण अभियान को राजनिति से दूर रखा जाना चाहिए। लोगों को टीके से जुड़े विज्ञान पर भरोसा रखना चाहिए और साथ ही यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके प्रियजनों को समय रहते यह टीका लग जाए। उन्होने यह भी कहा कि देश में अब तक लगभग 2 करोड़ से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं और टीकाकरण की दर बढ़कर प्रतिदिन 15 लाख हो गई है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में, भारत ने सभी विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों को ललकारा, जो मानते हैं कि हम इस महामारी में हार जाएगें। हम अपने कोरोना वारियर्स की कड़ी मेहनत और बलिदान की बदौलत आज हमारी स्वस्थ होने की दर विश्व में सबसे ज्यादा है।

- Advertisement -

Latest news

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...
- Advertisement -

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

Must read

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

You might also likeRELATED
Recommended to you