न्यूज़ समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा...

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

-

उत्तर प्रदेश समेत देश के पांच राज्यों में चुनाव होने वाले है। इन सभी राज्यों में यूपी के चुनाव सबसे ज्यादा सुर्खियों में है। ऐसा माना जाता है कि यूपी की राजनीति केन्द्र की गद्दी सुनिश्चित करती है। सूबे में चुनाव का पहला चरण 10 फरवरी से शुरु हो रहें है। चुनावों के मद्देनजर समाजवादी पार्टी ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया। पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को इसके बारे में प्रेस को जानकारी दी। पार्टी ने अपने मेनिफेस्टों में राज्य के सभी वर्गों को ध्यान रखा है। मेनिफेस्टो में लड़कियों को केजी से पीजी तक मुफ्त शिक्षा देने से लेकर यूपी के हर जिले में समाजवादी कैंटीन शुरुआत करके 10 रूपये में खाना देने का वादा किया है। साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

- Advertisement -

घोषणा पत्र के कुछ मुख्य बिंदुओं बात करते हैं।

रोजगार के क्षेत्र अखिलेश ने कहा कि 2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। सरकारी 11 लाख खाली पदों को भरा जाएगा। IT सेक्टर में 22 लाख नौकरियां दी जाएंगी। अस्थायी शिक्षकों को परमानेन्ट किया जाएगा। एक वर्ष में शिक्षा में खाली पदों को भरा जाएगा।

किसानो के लिए घोषणा पत्र में कहा गया है कि 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा। सभी फसलों को MSP के अंदर लाने के साथ सभी किसानो को सिचाई के लिए मुफ्त बिजली का वादा किया गया है। किसान आदोंलन में शहीद किसानों को 25 लाख रुपये दिए जाएगें।

महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी में 33% आरक्षण का प्रवाधान जैसी बातों को रखा है। महिला शिक्षिकाओं को पोस्टिंग का विकल्प दिया जाएगा। यूपी पुलिस में महिलाओं की 33% प्रतिनिधित्व दिया जाएगा। गरीब महिलाओं को प्रसव के दौरान 15000 रुपए की राशि दी जाएगी।

समाजवादी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में महिलाओं, अल्पसंख्यकों, गरीबों और दलितों के प्रति जिरो टालरेंस नीति का पालन करने जैसे तमाम मुद्दे गिनाए। कल से शुरु हो रहे चुनाव में इस घोषणा पत्र का क्या प्रभाव पड़ता है। यह तो 10 मार्च को वोटों के गिनती के साथ ही पता चलेगा।

- Advertisement -

Latest news

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।
- Advertisement -

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...

Must read

समाजवादी पार्टी ने जारी किया घोषणा पत्र, रोजगार, शिक्षा और किसानों के विकास के साथ अहम मुद्दा…

2027 तक दो करोड़ रोजगार का सृजन किया जाएगा। 2025 तक सभी किसानो को कर्जा मुक्त किया जाएगा, साथ ही सभी दो पहिया मालिकों के लिए 1 लीटर और चार पहिया मालिकों के लिए 3 लीटर मुफ्त पेट्रोल देने का भी वादा किया है।

विवादित कृषि कानूनों की वापसी, ह्रदय परिवर्तन या यूपी इलेक्शन चुनाव को तैयारी

सरकार तीनो किसान कानूनो को वापस लेने के एक ही विधेयक पारित कर सकती है। बताया जा रहा है कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान इस विधेयक को पारित किया जा सकता है। बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरु हो रहे हैं।

You might also likeRELATED
Recommended to you