चर्चा में कोरोना के डर ने ली पति-पत्नी की जान, डॉक्टर...

कोरोना के डर ने ली पति-पत्नी की जान, डॉक्टर ने हाथ लगाने से किया मना

-

अमित विक्रम शुक्ला

- Advertisement -

कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. परिस्थितियां ऐसी बनती जा रही हैं. जिससे लोगों में दहशत का माहौल पैदा होता जा रहा है. लेकिन ये दहशत अब जानलेवा भी साबित हो रही है.

कोरोना

दरअसल, पंजाब के अमृतसर में महामारी कोरोना वायरस के डर से खुदकुशी का मामला सामने आया है. यहां पर एक पति-पत्नी ने कोरोना वायरस के लक्षणों के डर से आत्महत्या कर ली. उन्होंने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि हम कोरोना वायरस के कारण नहीं मरना चाहते हैं. हमें कोरोना से टेंशन हो गई थी.

यह घटना अमृतसर के बाबा बकाला के सठियाला गांव की है. मृतकों के नाम गुरजिंदर कौर और बलविंदर सिंह हैं. वहीं, डॉक्टरों ने शवों का पोस्टमॉर्टम करने से मना कर दिया. पति की उम्र 65 साल थी तो वहीं पत्नी 63 वर्ष की थी. दोनों ने जहर खाकर जान दी है.

अब आप समझ सकते हैं कि कितना भयावह मंज़र बनता जा रहा है.

बता दें कि कोरोना वायरस के डर से खुदकुशी के कई मामले सामने आ रहे हैं. इससे पहले बुधवार को ही उत्तर प्रदेश के शामली में क्वारनटीन वार्ड में भर्ती कोरोना के एक संदिग्ध मरीज ने सुसाइड कर लिया. यह युवक दो दिन पहले ही अपने गांव आया था. सांस लेने में दिक्कत होने के बाद उसे क्वारनटीन वार्ड में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद युवक ने आत्महत्या कर ली.

उधर, दिल्ली के तबलीगी जमात के मरकज में पहुंचे एक शख्स ने भी आत्महत्या की कोशिश की. दरअसल, मरकज में पहुंचे कुछ लोगों को दिल्ली के राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में भी भर्ती करवाया गया है. जहां इनमें शामिल एक शख्स ने आत्महत्या करने की कोशिश की. शख्स अस्पताल की इमारत से नीचे कूदने की कोशिश कर रहा था. हालांकि, समय रहते शख्स को बचा लिया गया.

अस्पताल में भी आत्महत्या

इससे पहले बीते माह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भी एक कोरोना वायरस के मरीज ने खुदकुशी की थी. मरीज ने 7वीं मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी. 35 वर्षीय मृतक हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के सिडनी से वापस लौटा था.

बता दें कि कोरोना वायरस के मामले देश में तेजी से बढ़ रहे हैं. अब ये आंकड़ा 2500 के पार पहुंच चुका है. वहीं, 70 से ज्यादा लोग की मौत भी हो चुकी है. लोगों में इस खतरनाक वायरस का खौफ बढ़ता जा रहा है. जिसको लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार सुझाव और सुरक्षित रहने के लिए सन्देश दे रहे हैं.

और इस महामारी से लड़ने का फिलहाल, एकमात्र तरीका लोगों से दूर और घर पर सुरक्षित रहना ही है. जिसपर अमल करें।

अंत में अमित विक्रम शुक्ला की तरफ से एक मारक ज्ञान।

‘संदिग्ध मरीज का पूरा ब्यौरा ग्राम प्रधान को सौंपे। अब अगर प्रधान जी पुलिस और ज़िला अस्पताल को सूचित किए बगैर। चुनावी कार्ड खेलें, तो उन्हें पूरा मौका दें. “खेलने” का. क्योंकि आपका भी खेलने का समय बस लगभग आ चुका है.

(ग्रामसभावासियों के हित के लिए प्रधान होते हैं. वोटबैंक के लिए नहीं)

नमस्कार।

- Advertisement -

Latest news

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

महामारी से निपटने के लिए देश में तैयार किए जाएंगे एक लाख ‘कोरोना योद्धा’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती प्रदान करने के लिए सरकार एक लाख से अधिक कोरोना योद्धा तैयार करेगी।...

जानिए किस आधार पर जारी होंगे 12वीं के परिणाम, क्या है सीबीएसई का 30-20-50 का फार्मूला

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के लिए बिना परीक्षा के 12वीं के परिणाम को जारी करना एक बड़ी चुनौती...
- Advertisement -

जानिए कोरोना की दूसरी लहर से इकोनाॅमी को हुआ कितना नुकसान, क्या है आरबीआई की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर से देश की इकोनाॅमी को चालू वित्त वर्ष के दौरान अब तक दो लाख करोड़...

देश में वैक्सीन से पहली मौत की पुष्टि, क्या सच में घातक है कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन टीके के दुष्प्रभाव का अध्ययन कर रही सरकार की एक समिति ने टीकाकरण के बाद एनाफिलेक्सिस (जानलेवा...

Must read

उत्तर प्रदेश में “टू चाइल्ड पॉलिसी” चुनावी स्टंट या वक्त की मांग

मसौदे में इस बात पर सिफारिश की गई है कि दो बच्चों की नीति का उल्लंघन करने वालों को स्थानीय निकायों के चुनाव में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं देना, सरकारी नौकरी में आवेदन करने और प्रमोशन पर रोक लगाने जैसे मांग उठाना। साथ ही ये सुनिश्चित करना कि ऐसे लोगों को सरकार की ओर से मिलने वाले किसी भी लाभ से वंचित रखा जाए मौजूद है।

कोविड से मरने वालों के सरकारी आंकड़ो को आईना दिखाती, बीबीसी की विशेष पड़ताल

मुराद बानाजी ने बीबीसी से कहा कि वो ये मानते हैं कि देश भर में कोरोना की मौतें कम-से-कम पांच गुना कम करके बताई गईं।

You might also likeRELATED
Recommended to you